There was an error in this gadget

Saturday, September 20, 2008

do shabh!

चार आने में
यहाँ मौत बिकती है!
इस महेंगे ज़माने में,
बस जिंदिगी ही सस्ती है!
***************************
अपनों से पूछा,
तो बुरा मान गए,
बैगानों कि महफिल,
यहाँ रोज सजती है!

**************************

.....ankur

No comments: