There was an error in this gadget

Wednesday, November 5, 2008

वक्त..

उसने जब जब वक्त से ,

आगे चलने की कोशिश की!
तब तब उसके पाव इंसानियत के,

पायदान पर फिसलते चले गए!

........ankur

No comments: