There was an error in this gadget

Sunday, December 7, 2008

मैं वक्त को बेवक्त से.....

मैं वक्त को बेवक्त से,
बचाने चला था.
की आतंक की बर्बादी,
आड़े आ गई !
......ankur





No comments: