There was an error in this gadget

Monday, May 25, 2009

इतिशील विधाएं सिखाती है,

इतिशील विधाएं सिखाती है,

दुर्गम ओटन से झाक-झाक कर,

निर्मल होठों से परिमल होती,

गतिशील हवाएं,मन की भाषाएँ।

......ankur